Tuesday, 30 December 2008

सूचना


१ जनवरी २००९ के दिन 'नव वर्ष अभिनंदन' में यहीं पर

सुनिएः मनोशी की मधुर आवाज़ में 'सरस्वती माँ की अराधना'
पढ़िए और गुनगुनाईएः प्राण शर्मा का एक क़ता और नए साल पर मनमोहक ग़ज़ल
महावीर शर्मा

4 comments:

विनय said...

नववर्ष की शुभकामनाएँ, आप प्रस्तुत करें, मैं इंतज़ार में हूँ

hemjyotsana said...

aaderniye Mahavir jee sir,
aapke naye blog ke liye bahut bahut shubhkamanaaye,nav varsh ki bhi haarsik shubhkamanaaye,
pehli post ke intjaar mein

saadar
hem jyotsana

Nirmla Kapila said...

श्र्देय महावीर जी सादर नमन आपके लिखे पर टिप्पणी देना मेरे लिये सूर्य को दीपक दिखाने जेसा है नववर्ष कि आप एवं आप के परिवार को शुभकामनायें

Dr. Ahmad Ali Barqi Azmi said...

नया साल ख़ुशियोँ का पैग़ाम लाए
डा. अहमद अली बर्क़ी आज़मी

नया साल ख़ुशियोँ का पैग़ाम लाए
ख़ुशी वह जो आए तो आकर न जाए

ख़ुशी यह हर एक व्यक्ति को रास आए
मोहबब्बत के नग़मे सभी को ससुनाए

रहे जज़बए ख़ैर ख़्वाही सलामत
रहैँ साथ मिल जुल के अपने पराए

जो हैँ इन दिनोँ दूर अपने वतन से
न उनको कभी यादे ग़ुर्बत सताए

नहीँ ख़िदमते ख़ल्क़ से कुछ भी बेहतर
जहाँ जो भी है फ़र्ज़ अपना निभाए

मुहबबत की शमएँ फ़रोज़ाँ होँ हर सू
दिया अमन और सुल्ह का जगमगाए

रहेँ लोग मिल जुल के आपस मँ बर्क़ी
सभी के दिलोँ से कुदूरत मिटाए