Saturday, 6 February 2010

यू.के. से महावीर शर्मा की तीन क्षणिकाएँ - तीन रंग : माथे पर छोटी सी बिंदिया

माथे पर छोटी सी बिंदिया

तीन क्षणिकाएँ - तीन रंग
महावीर शर्मा

दुल्हन



अलसाये नयनों में निंदिया भावों के झुरमुट मचलाए
घूंघट से मुख को जब खोला आंखों का अंजन इतराए
फूल पर जैसे शबनम चमके दुल्हन के माथे पर बिंदिया।
मुस्काए माथे पर बिंदिया।

मुजरा

तबले पर ता थइ ता थैया, पांव में घुंघरू यौवन छलके
मुजरे में नोटों की वर्षा, बार बार ही आंचल ढलके
माथे से पांव पर गिर कर, उलझ गई घुंघरू में बिंदिया
सिसक उठी छोटी सी बिंदिया !

सीमा के रक्षक

दूर दूर तक हिम फैली थी, क्षोभ नहीं था किंचित मन मे
गर्व से 'जय भारत' गुञ्जारा, गोली पार लगी थी तन में
सूनी हो गई मांग प्रिया की बिछड़ गई माथे से बिंदिया।
छोड़ गई कुछ यादें बिंदिया।



अगला अंक: 14 फ़रवरी 2010
यू.के. से हिन्दी की चर्चित कहानीकार और कवयित्री
उषा राजे सक्सेना की दो रचनाएं

25 comments:

श्याम कोरी 'उदय' said...

दूर दूर तक हिम फैली थी, क्षोभ नहीं था किंचित मन मे
गर्व से 'जय भारत' गुञ्जारा, गोली पार लगी थी तन में
.... बहुत सुन्दर, प्रभावशाली अभिव्यक्ति !!!

दिगम्बर नासवा said...

छोड़ गई कुछ यादें बिंदिया...

बहुत मार्मिक ... संवेदनशील लिख है .... वैसे तीनों में अपना अपना रंग है ..... बहुत ही सुंदर महावीर जी ......

वन्दना said...

bahut hi marmik aur samvedansheel.

अनूप भार्गव said...

बहुत सुन्दर महावीर जी .. तीनो ही रग अपनी अपनी खूबसूरती लिये हैं ।

सादर

तिलक राज कपूर said...

कवि के भावों की इस दुनिया, में जब आती है इक बिंदिया
तो घूँघट की ओट से चलकर, घुँघरु बन पॉंवों में बँधकर
गोली से घायल फौजी तन, औ उसमें बाकी स्‍पंदन
क्‍या-क्‍या ना कह जाये बिंदिया।

मुस्काए माथे पर बिंदिया।
सिसक उठी छोटी सी बिंदिया !
छोड़ गई कुछ यादें बिंदिया।

अविस्‍मरणीय क्षणिकाऍं।
आपकी रचनायें पुष्टि करती हैं कि अच्‍छी रचना के लिये वैचारिक स्‍पष्‍टता होना आवश्‍यक है।
बहुत समय बाद क्षणिकाऍं पढ़ने को मिलीं।
साधुवाद

शोभना चौरे said...

is ak bindiya ne nari ke sare sansar ko shrngar de diya bhut khubsurat rachna .utkrasht .

PRAN SHARMA said...

TEEN RANG AUR TEENON HEE ATI UTTAM.
YE CHHOTEE-CHHOTEE KAVITAYEN MUN
MEIN UTAR GAYEE HAIN.

पंकज सुबीर said...

एक ही वि
षय को लेकर तीन अलग अलग रंग की रचनाएं और वो भी तीनों बिल्‍कुल ही नये शिल्‍प में । कवि को कहा जाता है कि वो प्रयोगवादी होता है । प्रयोगवादी का मतलब ये कि वो कुछ न कुछ नया अपने लिये तलाश करता रहता है । नये का मतलब है नयी जमीन और नया कथ्‍य । आपकी ये तीनों क्षणिकाएं उसी नये की तलाश की कविता हैं । प्रयोगवाद जब सही प्रयोगकर्ता के हाथ में होता है तो वो कुछ न कुछ पाता है । दादा भाई आपके गीतों को पढ़ने की तलब है ।

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' said...

श्रद्धेय महावीर जी, सादर प्रणाम
बिन्दिया...बिन्दिया...बिन्दिया
जिन शब्दों में आपने ये तीन रूप दिखाये हैं, वहां तक तो हम शायद जिन्दगी भर सोच ही नहीं पाते.
आपको और आपकी क़लम को सलाम

निर्मला कपिला said...

एक ही जीवन के तीन रंग बिन्दी के प्रतीक मे बहुत हे सुन्दर बन पडी हैं तीनो क्षनिकायें आपकी कलम हो और सभी रंग न समेटे ये कैसे हो सकता था ।लाजवाब । धन्यवाद और शुभकामनायें

RAJNISH PARIHAR said...

बहुत ही उम्दा रचनाएँ....!तीन कविता और तीनो ही अलग अलग भाव लिए हुए...!'सीमा के रक्षक' मुझे बहुत ही पसंद आई..

Babli said...

बहुत ही ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना लिखा है आपने! बड़े ही सुन्दरता से आपने प्रस्तुत किया है! इस उम्दा पोस्ट के लिए बधाई!

Anonymous said...

Bahut hee sunder!
Anootha!
Kuchh aisa jo sochne pe majboor karta hai...
Sadar...

Shardula said...

ओह ! अभी देखा कि आप कहते हैं कि "Anonymus Identity" का प्रयोग न करें :)So now have specially logged in to write this...
वह ऊपर वाली टिप्पणी मेरी है महावीर जी, आफिस में काम करते-करते एक मिनट कुछ अच्छा पढ़ने का मन हुआ तो आपके ब्लॉग पे आयी थी, शायद ये बिंदिया ही बुला रही थी :) बहुत सुन्दर बिम्ब हैं... मन प्रसन्न हुआ!
सादर शार्दुला

ashok andrey said...

teeno rachnaon ne bahut gehraa prabhav chhoda hei apne samaya kee sachchaae ko hee jeevant kiya hei jise hum log apne aas-paas ghatta hua dekhte hein ek akeli bindiya kis tarah se pristhitee badalte hee apnaa arth bhee badalne lagtee hei yahee iski gehraae ko aur sundar aayam de jaatee hei

रावेंद्रकुमार रवि said...

सभी कविताएँ अच्छी हैं!
--
कह रहीं बालियाँ गेहूँ की - "मेरे लिए,
नवसुर में कोयल गाता है - मीठा-मीठा-मीठा!"
--
संपादक : सरस पायस

Babli said...

महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें!

रचना दीक्षित said...

तीनों क्षणिकाएं बहुत ही अच्छी बनीं हैं बिंदी का अलग अलग उपयोग कभी प्रेम में सराबोर तो kabhi आँखों के जल से सराबोर वाह ...

"अर्श" said...

इन तीनो क्षणिकाओं की विशेषता इसकी हेड लाइन ही कह रही है ...
तीनो में , एक मुस्काती दूसरी बेबस है और तीसरी यादों में खोयी बिंदिया
तीनो ही रचना कमाल की है गुरु वर ... ये रचना कैसे मेरे से छुट गयी समझ नहीं पा रहा ... गुरु देव पंकज सुबीर जी ने जो आग्रह किया है वही मैं फिर से दुहराता हूँ ... आपकी गीतों के लिए ...

सादर
अर्श

महावीर said...

रचना पढ़ने और टिपण्णी के लिए आप सभी को हार्दिक धन्यवाद.

Devi Nangrani said...

आदरणीय महावीर जी
आपकी क्षणिकाओं ने मन मोह लिया है.
तबले पर ता थइ ता थैया, पांव में घुंघरू यौवन छलके
मुजरे में नोटों की वर्षा, बार बार ही आंचल ढलके
माथे से पांव पर गिर कर, उलझ गई घुंघरू में बिंदिया
सिसक उठी छोटी सी बिंदिया !
ज़िन्दगी के इस पहलु पर उन्चुए भावों को बिम्ब में ढल कर मन का भाव शब्दों में अभिव्यक्त किया है. बहुत ही अच्छी लगी तीनों कि तीन.

Vijay Kumar Sappatti said...

mahaveer ji . namaskar
aapki rachnaaye padhi .... aakhri rachna ne aankho ko nam kar diyaa. aaj isi vishay par maine ek katha likhi hai ....
aapko naman..

aapka

vijay

लावण्यम्` ~ अन्तर्मन्` said...

आ. महावीर जी ,
ईन कवितायें , तीन रूप लिए ,
अनगिनती भाव जगा गयीं
आप की रचनाएं सदा ही उच्च सत्तर की होती हैं और मन में घर कर लेतीं हैं
सादर नमन सहित --
- लावण्या

naresh said...

Mahavir sharma ji ki teenchoti so chenikaye pdhi choti si to h lakin ghav ghembir kerti h.Bindiya k teeno roopo per Aap n bhut hi marmik or payra sa likha h.DIL K aas-pas k kavita h.
Kavita m sabhi rang h.payar ka vichednye ka.sewdnoyo ka Aap k teeno rang bhut hi sunder legye
Aap ko dil se sadhu-bad.
NARESH MEHAN

naresh said...

Mahavir sharma ji ki teenchoti so chenikaye pdhi choti si to h lakin ghav ghembir kerti h.Bindiya k teeno roopo per Aap n bhut hi marmik or payra sa likha h.DIL K aas-pas k kavita h.
Kavita m sabhi rang h.payar ka vichednye ka.sewdnoyo ka Aap k teeno rang bhut hi sunder legye
Aap ko dil se sadhu-bad.
NARESH MEHAN